ई-मेल, सोशल नेटवर्किंग और ई-गवर्नेंस सर्विसेज

परिचय

इंटरनेट की सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली सेवा इलेक्ट्रॉनिक मेल या संक्षेप में ई-मेल (E-mail) है| इलेक्ट्रॉनिक मेल एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक संदेश होता है, जो किसी नेटवर्क से जुड़े विभिन्न कम्प्यूटरों के मध्य भेजा और प्राप्त किया जाता है| सोशल नेटवर्किंग दोस्तों, परिवारों, सहपाठियों, क्लाइंटों आदि के साथ सम्पर्क/कनेक्शन बनाने के लिए इंटरनेट आधारित सोशल मीडिया प्रोग्रामों का उपयोग है| यह सामाजिक तथा व्यावसायिक उद्देश्यों की पूर्ति के लिए हो सकता है| सोशल नेटवर्किंग वेब के सबसे बड़े और प्रभावशाली कम्पोनेंटों (Components) में से एक बन गया है|
ई-गवर्नेंस (E-Governance), सरकार और जनता के मध्य एक सफल माध्यम है| प्रत्येक व्यक्ति ई-गवर्नेंस के माध्यम से सरकार से जुड़ जाता है और अपने गाँव, जिले के सरकारी अधिकार, आय प्रमाण पत्र, छात्रवृत्ति की स्थिति, सरकारी अधिकारियों की स्थिति आदि के बारे में जान सकता है|

इलेक्ट्रॉनिक मेल (Electronic Mail)

ई-मेल का पूर्ण रूप 'इलेक्ट्रॉनिक मेल' है| ई-मेल के माध्यम से कोई व्यक्ति विशेष या यूजरों का समूह दुनियाभर में किसी से भी संदेशों का आदान-प्रदान कर सकता है|
ई-मेल संदेश के दो घटक होते हैं- ई-मेल एड्रेस और मैसेज| किसी भी ई-मेल प्रदाता की वेबसाइट; जैसे- Gmail, Hotmail, Yahoo Mail पर साइन-अप (Sign-Up) करके नए ई-मेल एड्रेस को यूजर द्वारा बनाया जा सकता है|
इसका प्रयोग करके ई-मेल को क्रिएट, सेंड, रिसिव, फॉरवर्ड, स्टोर, प्रिंट और डिलीट किया जा सकता है| ई-मेल का प्रयोग करके साधारण टैक्स्ट, डॉक्यूमेण्ट, ग्राफिक्स, ऑडियो, वीडियो और इमेज आदि भेजे जा सकते हैं|

ई-मेल के लाभ (Advantages of E-mail)

  • ई-मेल के माध्यम से सन्देशों के साथ-साथ उनकी दिनांक व समय को भी सुरक्षित करके रख सकते हैं|
  • ई-मेल एड्रेस इंटरनेट पर व्यक्ति की पहचान व वेबसाइटों पर रजिस्ट्रेशन करने में अत्यन्त लाभप्रद है|
  • ई-मेल द्वारा सन्देशों को व्यावहारिक पत्राचार की तुलना में बहुत तेज गति से सम्प्रेषित (Transmit) किया जाता है|
  • ई-मेल द्वारा पत्रों/सन्देशों के खोने की आशंका समाप्त हो जाती है|
  • ई-मेल को केवल वही यूजर पढ़ या डाउनलोड कर सकता है, जिसे वह भेजा गया है|
  • पारम्परिक डाक सेवा के अतिरिक्त ई-मेल का प्रयोग करने से पेपर की भी बचत होती है व ई-मेल को कागजी दस्तावेजों की तुलना में संभालना आसान होता है|
  • ई-मेल का प्रयोग वर्तमान में विज्ञापनों, बिजनेस प्रोमोशन इत्यादि में भी किया जाता है|

ई-मेल की हानियाँ (Disadvantages of E-mail)

ई-मेल के लाभ होने के साथ-साथ उसकी कुछ हानियाँ भी हैं, जो निम्नलिखित हैं-

  • ई-मेल के पासवर्ड के चोरी होने पर कोई भी अज्ञात व्यक्ति उसका प्रयोग कर सकता है|
  • प्राप्त किए गए ई-मेल में वायरस हो सकते हैं, जो हानिकारक छोटे प्रोग्राम्स होते हैं| वायरस प्रोग्राम ई-मेल से सम्बन्धित सभी जानकारियों को चुराकर, अनुचित ई-मेल को अन्य ई-मेल एड्रेसों पर भेज सकता है|
  • कई यूजर्स अन्य ई-मेल यूजरों को अवांछित (Unwanted) ई-मेल भेजते हैं, जिन्हें स्पैम (Spam) कहा जाता है|
  • यूजर्स को Mailbox को समय-समय पर मैनेज करना होता है अन्यथा Mailbox फुल हो जाएगा व आगामी ई-मेल को प्राप्त नहीं किया जा सकेगा|
  • ई-मेल का प्रयोग सरकारी व्यापार में नहीं किया जा सकता, क्योंकि यदि ई-मेल क्रिडेंशियल (Credentials) किसी अवैध यूजर (Unauthorised user) को पता चला जाए, तो वह उनका गलत प्रयोग कर सकता है|

ई-मेल मैसेज का स्ट्रक्चर (Structure of E-mail Message)

ई-मेल मैसेज का सामान्य स्ट्रक्चर निम्न कम्पोनेंटों को शामिल करता है-

  • To यह फील्ड प्राप्तकर्ता (Recipient) के ई-मेल एड्रेस को शामिल करता है| यह ई-मेल मैसेज का सबसे पहला फील्ड होता है|
  • Cc इसका पूरा नाम कार्बन कॉपी (Carbon Copy) है| यह प्राप्तकर्ताओं के एड्रेस को शामिल करता है, जिन्हें यूजर्स ई-मेल मैसेज की कॉपी भेजना चाहते हैं|
  • Bcc इसका पूरा नाम ब्लाइंड कार्बन कॉपी (Blind Carbon Copy) है| यह फील्ड भी प्राप्तकर्ताओं की लिस्ट को शामिल करता है| Bcc प्राप्तकर्ता To और Cc एड्रेस को देख सकते हैं|
  • Subject यह फील्ड मैसेज के शीर्षक (Title) को शामिल करता है|
  • Attachments इसके द्वारा ई-मेल मैसेज के साथ किसी भी फाइल जैसे- टैक्स्ट, इमेज, ऑडियो, वीडियो इत्यादि को जोड़ सकते हैं|
  • Body यह फील्ड ई-मेल मैसेज के टैक्स्ट को शामिल करता है| वास्तविक कन्टेन्ट इसी भाग में संग्रहीत होता है| इस फील्ड में प्रेषक (Sender) ई-मेल सिस्टम द्वारा स्वचालित रूप से उत्पन्न हस्ताक्षर या टैक्स्ट भी शामिल हो सकते हैं| प्रत्येक उपयोगकर्ता द्वारा उपयोग की जाने वाली विभिन्न ई-मेल सिस्टम के अनुसार ई-मेल के कन्टेन्ट भिन्न हो सकते हैं|
  • Formatting फॉर्मेटिंग टैब का प्रयोग करके, यूजर्स अपने मैसेज को फॉर्मेट कर सकते हैं|
  • Other Options यूजर्स अन्य विकल्प; जैसे- इमोटिकॉन, बोल्ड, इटैलिक, हाइपरलिंक इत्यादि का प्रयोग करके मैसेज को अधिक आकर्षक बना सकते हैं|
  • Send button ई-मेल को भेजने के लिए Send बटन पर क्लिक किया जाता है|

ई-मेल मैसेज के स्ट्रक्चर की विण्डो को नीचे प्रदर्शित किया गया है

Next

1 2 3 4 5 6